ISKCON Rome 50 Anniversary2

इस्कॉन इटली ने ५०वीं वर्षगाँठ के आयोजनों के अवसर पर रोम के ऐतिहासिक पियाज़ा विट्टोरिओ बाग़ में पवित्र बरगद वृक्षारोपण करके किया ।

रोम की भक्तिवेदांत सांस्कृतिक एवं शैक्षणिक पुस्कालय ने इस अवसर पर यह वृक्ष दान किया । यह और भी शुभ इसलिए हो गया क्योंकि लगभग १८ वर्ष पूर्व इस वृक्ष को पौधे के रूप में बंगाल में श्री चैतन्य महाप्रभु के जन्मस्थान, योगपीठ से लाया गया था ।

रोम के सार्वजानिक पार्कों के अधीक्षक डा. अलेक्सांद्रो मोरी और राष्ट्रिय प्राचीन कला संग्रहालय के डा. मस्सिमिलिआनो पोलीचेट्टी ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की ।

इस वृक्ष के निकट एक पाटिया लगाया गया जिस पर लिखा था “इस्कॉन, अंतराष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ- संस्थापकाचार्य ए सी भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद -(न्यूयॉर्क १९६६) की ५०वीं वर्षगाँठ पर समर्पित”

कार्यक्रम का अंत आरती, कीर्तन और प्रसाद से हुआ ।

इस कार्यक्रम के उपरांत इस्कॉन इटली के हर सदस्य ने इस वर्ष (२०१६) में वर्षगाँठ के उपलक्ष्य पर हर सप्ताह श्रील प्रभुपाद की एक पुस्तक वितरित करने का प्रण लिया ।

मंदिर के अध्यक्ष श्रीमान पराभक्ति दास ने कहा कि, “हमारे ब्रह्मचारी जो देश भर में भ्रमण करके पुस्तक-वितरण के लिए पूर्ण समर्पित हैं वे भी इस वर्ष अपने प्रयासों को बढ़ाएंगे । रोम के कई अस्पतालों के प्रतीक्षालयों में, रेलवे स्टेशनों पर, जेलों में पहले ही पुस्तकों को रखवाया जा चुका है । अब इस वर्ष हम ५० ऐसे नए स्थानों पर पुस्तको को रखेंगे ।”

फ्लोरेंस के निकट स्थित इस्कॉन मंदिर ने इटली के ५० अलग अलग स्थानों पर हरिनाम संकीर्तन करने की भी योजना बनायी है । अनेक योजनाओं में से एक है इस संसद सत्र में अध्यक्ष पराभक्ति दास द्वारा इटली के संसद भवन में कार्यक्रम आयोजित करना । यह इस्कॉन और श्रील प्रभुपाद के विषय में एक आधिकारिक प्रस्तुतीकरण होगा ।

ISKCON Rome 50 AnniversaryISKCON Rome 50 Anniversary1

 

 

 

प्रेषक: ISKCON Desire Tree – हिंदी
hindi.iskcondesiretree.com
facebook.com/IDesireTreeHindi