ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (9)हृदय में भगवान श्री चैतन्य महाप्रभु के सन्देश को जन-सामान्य में वितरित करने की निर्मल मनोकामना के साथ अलीगढ के भक्तों ने श्री महेश्वर प्रताप वार्ष्णेय जी द्वारा दान की हुयी भूमि पर दिन-रात मेहनत की और अंततः वह दिन आ ही गया जब प. पु. गोपाल कृष्ण गोस्वामी, प. पु. नवयोगेन्द्र स्वामी, प. पु. क्रतु महाराज और श्रीमान देवकीनन्दन दास के पावन उपस्थिति में “भूमि पूजन उत्सव” मनाया गया ।
डा. वार्ष्णेय ने इस्कॉन के द्वारा हरिनाम और गीता-ज्ञान के विश्वभर में प्रचार से प्रेरित होकर ४ एकड़ भूमि दान स्वरुप इस्कॉन को भेंट की । वे स्वयं भी भगवद-गीता के उत्सुक अनुयायी हैं ।
सम्पूर्ण अलीगढ़ शहर में इस्कॉन के उत्साही युवा भक्तों ने हरिनाम संकीर्तन किया और आमंत्रण के पर्चे बांटे । राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल, श्रीमान कल्याण सिंह के निवास स्थान पर भी हरिनाम और सत्संग का कार्यक्रम हुआ । उसकी पूर्व रात्रि में भक्तों ने अपने हाथों से शेषनाग को प्रतिष्ठित करने हेतु भूमि पर खुदाई की ।
अगले दिन प्रातः से ही मधुर कीर्तन के मध्य प. पु. क्रतु महाराज, उनकी धर्मपत्नी श्रीमती अमृतकेली दासी माताजी और कुछ वरिष्ठ भक्तों ने यज्ञ प्रारम्भ किया । प. पु. गोपाल कृष्ण गोस्वामी महाराज, प. पु. नवयोगेन्द्र स्वामी महाराज और श्रीमान देवकीनन्दन प्रभु की सौम्य उपस्तिथि में शेषनाग की प्रतिष्ठा हुयी, तत्पश्चात गौदान किया गया ।
सभी उपस्थित अतिथिगण और भक्तों ने वैष्णव गीत और कीर्तन का आनंद लेते हुए मंदिर का निर्माणकार्य अति शीघ्र पूर्ण करने का निश्चय किया । श्रीमान कल्याण सिंह जी ने इस्कॉन के प्रचार कार्यों को सराहा और भविष्य में किसी भी प्रकार की सहायता का आश्वासन दिया ।
उत्सव के अंत में सभी के लिए स्वादिष्ट प्रसाद और उत्साही कीर्तन हुआ ।
ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (7)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (6)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (5)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (1)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (4)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (3)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (2)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (15)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (13)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (12)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (11)ISKCON Aligarh Bhumi Pujan (8)