Boat Festival in Vrindavan-2016 (14)

वृंदावन का वार्षिक नौका-विहार उत्सव जोकि गौर-पूर्णिमा के समारोहों का ही भाग है, भक्तों में अत्यधिक लोकप्रिय है । कृष्ण-बलराम मंदिर के कुंडाकार आँगन में जल भर कर श्री श्री राधा श्यामसुंदर जी को उनके हंसरूपी-नौका में विहार कराया जाता है । गुंजायमान कीर्तन के बीच वे इस कुंड के हर कोने पर स्थित अपने भक्तों और प्रशंसकों को दर्शन देने जाते हैं ।

मंदिर के आँगन में बने कुंड को कलाकारों द्वारा बहुत ही सुन्दर पुष्प-रगोली से सजाया जाता है जिसमे पुष्प बहुत ही रहस्मय तरीके से जल के ऊपर तैरते हुए अभिकल्पित रचना बन जाते हैं । इस वर्ष की रचना में गुलाब की पंखुड़ियों के बीच इस्कॉन के प्रतिक-चिन्ह में बने कमल तथा तिलक के प्रतिरूप को दर्शाया गया था । उसके चारों ओर सुन्दर कलकृतियां बनायीं गयी थी तथा गुलाबी कमल पुष्प तैर रहे थे ।

मंदिर के प्रांगण को सजाने के लिए ७०० किलोग्राम पुष्प तथा पंखुड़ियों का प्रयोग किया गया था । भगवान् के विग्रहों पर पुष्प-वर्षा देखकर भी भक्तों को आनंद की अनुभूति हुयी । कुल मिलाकर एक लाख पुष्पों को ३६ भक्तों ने ३६ घंटे लगातार सेवा में लगकर उत्सव में सजावट में चार-चाँद लगाए ।

वृंदावन की नौका-विहार का आरम्भ सन १९७९ में हुआ था । लम्बे-समय से वृंदावन मंदिर की रहिवासी दैवी शक्ति माताजी के अनुसार सुरभि प्रभु जब इस मंदिर की रुपरेखा तैयार कर रहे थे तभी से उन्होंने भगवान् की नौका विहार के लिए इस प्रकार के आँगन की परिकल्पना की थी ।

प्रारंभिक दिनों में जब नौका-विहार उत्सव होते थे तब मंदिर के प्रांगण में कुंड के किनारों पर भक्त नृत्य-नाटिका प्रस्तुत करते थे और विभिन्न प्रकार के भोग अर्पण करते थे । विहार करते हुए भगवान् हर किनारे पर जाकर नाटक देखते और भोग स्वीकार करते थे ।

Boat Festival in Vrindavan-2016 (1) Boat Festival in Vrindavan-2016 (2) Boat Festival in Vrindavan-2016 (3) Boat Festival in Vrindavan-2016 (4) Boat Festival in Vrindavan-2016 (5)
Boat Festival in Vrindavan-2016 (7)
Boat Festival in Vrindavan-2016 (8) Boat Festival in Vrindavan-2016 (9) Boat Festival in Vrindavan-2016 (10) Boat Festival in Vrindavan-2016 (11) Boat Festival in Vrindavan-2016 (12) Boat Festival in Vrindavan-2016 (13)
Boat Festival in Vrindavan-2016 (15)
Boat Festival in Vrindavan-2016 (6) Boat Festival in Vrindavan-2016 (16) Boat Festival in Vrindavan-2016 (17) Boat Festival in Vrindavan-2016 (18)