Budapest, Krishna Valley

हंगरी में विभिन्न राष्ट्रों के राजनयिक एवं उनके परिवार


इस्कॉन की ५०वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में, हंगरी के भक्तों ने “प्रथम गौ-चारण” नामक एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमे शांतिमय एवं समृद्ध समाज के लिए गाय की महत्वपूर्ण भूमिका के विषय में लोगो को जागरूक किया जायेगा।

इस कार्यक्रम की व्यवस्था बुडापेस्ट में भारतीय राजनयिक की पत्नी श्रीमती कविता छाबरा द्वारा किया गया था । इस कार्यक्रम के मेज़बान भारतीय राजनयिक एवं उनकी पत्नी के अतिरिक्त कई और राष्ट्रों जैसे बेलारूस, ब्राज़ील, इक्वाडोर, लिथुआनिया, मलेशिया, पाकिस्तान, स्विट्ज़रलैंड के राजनयिक अपने परिवार के साथ इस कार्यक्रम में उपस्थित थे ।
अथितियों के स्वागत के उपरांत उन्हें “एको वैली फाउंडेशन-अनुसन्धान एवं शैक्षणिक संस्थान” में चिरस्थायी अर्थव्यवस्था एवं जीवनशैली के विषय से अवगत कराया गया।
तत्पश्चात उन्हें नंदग्राम के निकट एक पर्वत पर ले जाया गया जहाँ से गोशाला एवं गोचारण भूमि का विहंगम दृश्य देखने को मिलता है।
प्रतिष्ठित दल में विस्मय से देखा कि कैसे गोशाला में लम्बी सर्दियां बिताने के बाद स्कूली बच्चों की तरह गौएँ भी हरी-भरी ताज़ी घास के मैदान में उछल-कूद कर रहे हैं ।
इसके बाद यह दल जैविक कृषि क्षेत्र में गया जहाँ उन्हें चिरकालिक कृषि के विषय में विस्तारपूर्वक बताया गया इसके उपरांत सभी मंदिर गए और श्री श्री राधेश्याम के दर्शन लाभ लिया।
यह उल्लेखनीय है कि यद्यपि दल में विभिन्न धर्मों के लोग थे परन्तु सभी ने मनोरम स्थान, सुन्दर अर्चविग्रहों और मंदिर की सजावट की प्रशंसा की।
तत्पश्चात सभी के लिए प्रीति-भोज की व्यवस्था की गयी थी । विभिन्न देशो की कारों का उनके राष्ट्रध्वज के साथ एक साथ पंक्ति में खड़े देखना अद्भुत प्रतीत हो रहा था। भोजन के बाद सभी अतिथि इस अतिउत्तम अनुभव के लिए उन्मादपूर्ण आभार प्रकट करते हुए अपने अपने गंतव्यों को प्रस्थान कर गए।
प्रेषक : ISKCON Desire Tree – हिंदी
hindi.iskcondesiretree.com
facebook.com/IDesireTreeHindi