— भारत के माननीय प्रधानमंत्री का पत्र —

Narendra Modi, Prime Minister of India

“मुझे यह जानकर प्रसन्नता हुई कि अंतराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ (इस्कॉन) अपनी ५०वीं वर्षगाँठ मना रहा है।

पिछले पांच दशकों से इस्कॉन समाज की निःस्वार्थ सेवा में कार्यरत है ।

अधिक शांतिपुर्ण, WhatsApp Image 2016-08-10 at 5.44.13 PMसामंजस्यपुर्ण और करुणामय समाज बनाने के इच्छा में इस्कॉन परिवार, सबसे आगे उभर कर आया है। इस्कॉन की यात्रा ‘वासुदेवः कुटुम्बकम’ को प्रदर्शित करती है। एकीकरण आपके दर्शन का सार है।

इस्कॉन का इति
हास दृढ निश्चय और विश्व भर में व्याप्त लाखों भक्तों की भक्ति की गाथा है । भगवान कृष्ण की शिक्षाओं से प्रेरित होकर आपने इस सन्देश का सुदूर प्रांतों तक प्रचार-प्रसार किया । इस्कॉन परिवार के शिक्षा, प्रकाशन और आपदाओं के समय राहत-कार्य के प्रयास प्रशंसनीय हैं ।

इस अवसर पर मै इस्कॉन परिवार को अपनी शुभकामनायें व्यक्त करता हुँ और आशा करता हुँ कि पिछले पांच दशकों के समरूप वें उसी उत्साह एवं कर्मठता के साथ मानवता की सेवा करना जारी रखेंगे। यह आशा है कि भक्तों का परिवार एक बेहतर कल बनाने में बदलाव का प्रतिनिधि बने।

जय श्री कृष्ण !

 

हस्ताक्षर —

(नरेंद्र मोदी)

नई दिल्ली

८ अगस्त २०१६