Srila Prabhupada Vyas Puja 2017श्रील प्रभुपाद व्यास पूजा पुस्तक २०१७ में श्रद्धांजलि देने हेतु सूचना । 

द्रविड़ प्रभु द्वारा विवरण:
व्यास-पूजा आध्यात्मिक शिक्षक जो कृष्ण तथा कृष्ण के अवतार वेदों के संपादनकर्ता व्यासदेव का प्रतिनिधित्व करते हैं, उनके लिए विशेष सम्मान की वार्षिक भेंट अथवा श्रद्धांजलि है। कृष्ण सभी को सलाह देतें हैं कि भगवान को खोजने से पहले भगवान के प्रतिनिधि को खोजें और सम्मान से उनके मार्गदर्शन को स्वीकार करें।
अंतराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ के सदस्य श्रील प्रभुपाद को इस्कॉन का आध्यात्मिक मार्गदर्शक मानते हैं।
वें प्रति वर्ष, सम्पूर्ण विश्व के भक्तों और मंदिरों द्वारा श्रील प्रभुपाद को दी गयी श्रद्धांजलि से संग्रहीत व्यास-पूजा पुस्तक का प्रकाशन करते हैं।
यदि आप श्रील प्रभुपाद के प्रत्यक्ष शिष्य हैं तो www.sptributes.com पर जाएँ और व्यास पूजा पुस्तक के विषय में जाने जोकि उनके सभी शिष्यों के लिए खुली है। इस पुस्तक को प्रस्तुत करने की समय सिमा १५ अप्रैल २०१७ है।
कौन यह श्रद्धांजलि लिख सकता है ?
१. गवर्निंग बॉडी कमिश्नर
२. सन्यासी
३. इस्कॉन मंदिर, प्रचार केन्द्र, फार्म्स, गुरुकुल, बी.बी.टी ऑफिस तथा अन्य जैसे बी.टी.जी पत्रिका और ISCOWP के अधिकृत प्रतिनिधि (यह पूर्ण सूची नहीं है)
यदि कुछ संदेह है तो, आपके जी.बी.सी प्रतिनिधि द्वारा लिखित प्राधिकरण के लिए आपको अनुरोध भेज दिया जाएगा।

पारंपरिक व्यास पूजा पुस्तक श्रद्धांजलि हेतु मापदंड जानने के लिए भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित पुस्तक को नीचे दिए गए लिंक पर पढ़ा जा सकता है:
http://www.iskcondesiretree.com/profiles/blogs/call-for-homages-for-srila-prabhupada-s-2017-vyasa-puja-book

अपनी श्रद्धांजलि dravida108@gmail.com पर ईमेल करके द्रविड़ प्रभु को प्रस्तुत करें।

अब से १५ अप्रैल २०१७ तक किसी भी समय श्रद्धांजलि प्रस्तुत किया जा सकता है। वें ईमेल द्वारा आपके श्रद्धांजलि की प्राप्ति की पुष्टि करेंगे। यदि पुष्टिकरण प्राप्त नहीं होता है तो श्रद्धांजलि पुनः भेजें। बी.बी.टी खोये हुए श्रद्धांजलि का जिम्मेदार नहीं है।